Electricity from Rainfall in Hindi/ बारिश से बनाई बिजली

Electricity from Rainfall in Hindi

Electricity from Rainfall in Hindi/ बारिश से बनाई बिजली

जैसे जैसे शहरीकरण विकास की ओर अग्रसर है वैसे वैसे ऊर्जा का इस्तेमाल दिन प्रतिदिन अपनी चरम सीमा से भी पार होता जा रहा है. ऊर्जा की भूख में मानव वो हर संभव प्रयास कर रहा है जिससे वो ऊर्जा के नए नए श्रोत का आविष्कार करके ऊर्जा की खपत को बनाये रखे. वैसे तो सौर ऊर्जा से हमें energy generation में काफी मदद मिली है लेकिन इसकी भी अपनी कुछ सीमाएं हैं जैसे कि रात और खराब मौसम में ये solar panels निष्क्रिय हो जाते हैं. कैसा होता अगर हम रात में ना सही लेकिन दिन के उजाले में और बारिश में भी बिजली (electricity) बनाने में सक्षम हो जाते, तो काफी हद तक सोलर पैनल की limitations ख़त्म हो जातीं और ऊर्जा के क्षेत्र में बहुत तेज़ी से प्रगति होती. तो चलिए शुरू करते हैं अपने अहम टॉपिक को Electricity from Rainfall in Hindi/ बारिश से बनाई बिजली”.

 

कुछ समय पहले ही china की एक रिसर्च टीम ने बताया है कि हमने solar panel बनाने का एक ऐसा नया तरीका खोजा है जिससे वो सूरज की रौशनी और बारिश दोनों में अच्छे से काम करता रहेगा. उन्होंने सोलर पैनल के ऊपर एक ग्राफीन material की परत चढ़ाई जिससे अब वो सूरज की रौशनी में और बारिश के salt ions वाले पानी से भी बिजली बनाने में सफल हुए.

क्युकी हम जानते हैं कि बारिश का पानी बिल्कुल शुद्ध नही होता उसमें सोडियम, कैल्शियम और अमोनियम जैसे आयन होते हैं, तो अगर इनको पानी से किसी भी अभिक्रिया से अलग कर दें तो बिजली उत्पन्न की जा सकती है, तो इन वैज्ञानिकों ने ग्राफिन material का उपयोग किया.

वैज्ञानिकों ने इसके परीक्षण के लिए dye-sensitized solar cell की एक पतली परत पर graphene की परत चढ़ा कर उसको plastic और indium tin oxide के बीच में रखा गया और देखा कि ये सिस्टम सभी तरीके के मौसम में electricity generate करने में सक्षम था.

 

Working of rainfall solar panel:

जब बारिश का पानी इस सोलर प्लेट पर गिरता है तो सोडियम, कैल्शियम आदि के positive charged ions graphene की पतली plate पर चिपक जाते हैं और इस तरीके से positive और negative दो layer बन जाती हैं और दोनों के बीच potential energy difference होने के कारण इलेक्ट्रॉन्स flow करने शुरू हो जाते हैं जिससे current generate होने लगता है और बिजली बननी शुरू हो जाती है जिसे बैटरी के जरिये store कर लिया जाता है.

इस टीम की रिपोर्ट के मुताबित इन लोगों ने अपने experiment के दौरान ही कई वोल्टस की बिजली बना ली थी और साथ ही सोलर पैनल से 6% तक की efficiency तक प्राप्त कर ली थी. लेकिन सबसे बड़ी चुनौती अब भी इनके सामने यह है कि लैब में बनाये गये salt water की relatively concentrations ज्यादा होती है बारिश के पानी की तुलना में. तो एक ऐसा solar panel बनाना जो high और low दोनों concentrations के salt water को आसानी से process कर सके और ज्यादा बिजली बनाने में सक्षम हो सके.

अभी ये तरीका पूरी तरके से कामयाब नही हो पाया है लेकिन काफी हद तक वैज्ञानिको ने सफलता पायी है और जैसे ही ये सफल हो जाएगा तब मार्किट में बहुत तेज़ी से सभी सोलर पैनल replace किये जायेगें और नए तरीके के पैनल का installation शुरू किया जायेगा और ऊर्जा की demand बढ़ने के साथ ही उत्पादन भी बढ़ जाएगा.

Also Read:

Best Tips to save Car Petrol fuel in Hindi/ कार पेट्रोल बचाने के तरीके

5 Ways to make Electricity at Home in Hindi/ बिजली बनाने के पांच तरीके

Best ways to save Electricity in Hindi/ बिजली कैसे बचायें

 

उम्मीद करता हूँ कि “Electricity from Rainfall in Hindi/ बारिश से बनाई बिजली” आर्टिकल आपको पसंद आया होगा.

Thanks a lot to be BusinessBharat Blog Reader…

Hope you enjoy & Learn..!!

Leave a Reply