How Electric motor works in Hindi/ मोटर कैसे काम करती है

How Electric motor works in Hindi

How Electric motor works in Hindi/ मोटर कैसे काम करती है

Electric motor एक ऐसा अनोखा अविष्कार है जिसकी उपयोगिता का तो जैसे कोई तोड़ ही नही. शायद आप सोच भी सकते कि आपके घर में कितनी मोटर लगी हुई हैं…?? दो मोटर तो आपके लैपटॉप या कंप्यूटर में ही होती हैं : एक हार्ड ड्राइव में और एक cooling fan में लगी होती है. खिलोने, पंखे, ड्रायर, exhaust fan, वाशिंग मशीन, ग्राइंडर, माइक्रोवेव आदि में मोटर ही लगी हुई होती है. बिजली से चलने वाला मोटर सबसे ज्यादा use किया जाने वाला component है जिसे घर से लेकर छोटी बड़ी कम्पनी में भी use किया जाता है. लेकिन क्या आप जानते हैं कि मोटर कैसे काम करती है…?? तो चलिए बात करते हैं “How Electric motor works in Hindi”.

 

Parts of Electric motor

अगर कभी आपने किसी मोटर को खोलकर देखा हो तो शायद आपको पता होगा कि इसमें main तीन पार्ट्स होते हैं Stator, Rotor, Commutator.

Stator में बहुत सी कॉपर की coil लिपटी हुई होती हैं जिसके बीच में रोटर की rod होती है जो स्टेटर के अंदर घुमती है. जब भी electricity मोटर को डी जाती है तो स्टेटर तो stable रहता है जबकि रोटर घूमना शुरू कर देता है.

 

Working principle of Electric motor

सबसे पहले ये जानना बहुत ही जरुरी है कि मोटर किस सिद्धांत पर काम करता है और इसके पीछे क्या logic है. Electric motor Fleming Left hand rule पर काम करता है.

आपने देखा होगा कि जब दो मैगनेट को आपस में पास में लाया जाता है तो क्या होता है. Magnet में दो pole होते हैं north और south pole. जब different type के pole एक दुसरे के सामने आते हैं तब magnet एक दुसरे को attract करके चिपक जाती हैं और जब same type के pole सामने आते हैं ये एक दुसरे को repel करता है.

 

How Electric motor works in Hindi

 

How does Electric motor works

मोटर के stator में कॉपर के तार की winding होती है जिसमें बहुत से turn होते हैं उस copper coil के. जब इस कॉपर की coil से electric current होकर गुजरती है तो इसके चारों तरफ magnetic field generate हो जाता है, जिससे rotor rod north-south pole के अनुसार magnetic force से हिलने लगता है और current के बदने के साथ साथ इसके घुमने की speed भी बढ़ने लगती है और मोटर तेज़ी से घुमने लगती है.
मोटर की direction के निर्धारण के लिए commutator होता है जो मोटर को forward और backward दोनों direction में घुमा सकता है.

मोटर की speed को बढ़ने के लिए दो तरीके हैं या तो electric current को बढ़ा दें या फिर कॉपर की coils के no. of turns बढ़ा दें, जिससे magnetic field काफी बढ़ जाता है और रोटर की speed भी काफी बढ़ जाती है.
यही फर्क होता है छोटी और बढ़ी मोटर में कि उनमें stator का size और कॉपर coils के no. of turns का फर्क आता है और बाकी working method सभी का same ही रहता है. मोटर की speed fast रखने के लिए कॉपर के wire को पतला ही रखना चाहिए जितना पतला wire होगा उतनी ही मोटर की efficiency अच्छी होगी.

मोटर को दो भागों में बांटा जाता है AC motor और DC motor. जो मोटर Mains 220VAC पर चलती है उसको AC मोटर कहा जाता है और जो DC supply पर work करती है उसको DC मोटर की category में रखा जाता है.

 

मोटर के बिना तो जैसे किसी इंडस्ट्री की कल्पना भी करना बेकार है. हम लोग इस पर ज्यादा गौर नही करते लेकिन अगर आप मोटर से related कोई भी बिज़नेस शुरू करना चाहते हैं और सोचते हैं कि क्या मेरा बिज़नेस सफल हो पायेगा या नही…तो मेरी सलाह है कि बिना कुछ सोचे समझे और साथ ही मार्किट की demand का ध्यान रखते हुए आप इस बिज़नेस को बहुत जल्दी सफल रूप से आगे बढ़ा सकते हैं.

Also Read:

How Doorbell works in Hindi/ डोरबेल कैसे काम करती है

3D Printing & How it works in Hindi/ 3D प्रिंटिंग क्या है और कैसे काम करती है

What is Internet & How it works Hindi/ इन्टरनेट क्या है कैसे काम करता है

स्वर्णिम भारत का इतिहास History of India in Hindi

Small Business ideas with Low Investment in Hindi/ कम पैसे में बिज़नेस आईडिया

उम्मीद करता हूँ कि “How Electric motor works in Hindi” आर्टिकल आपको पसंद आया होगा.

Thanks a lot to be BusinessBharat Blog Reader…

Hope you enjoy & Learn..!!

One Response

  1. Aashuraj January 23, 2018

Leave a Reply