Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

Bio diesel ka Business kaise start kre in Hindi/ बायोडीजल बनाने का अपना बिजनेस शुरू करें

Bio diesel ka Business kaise start kre in Hindi

Bio diesel ka Business kaise start kre in Hindi/ बायोडीजल बनाने का अपना बिजनेस शुरू करें:

बहुत से लोगों के दिमाग में हमेशा से यही चलता रहता है कि यार चलो कोई छोटा मोटा बिजनेस ही शुरु करते हैं और वह सोचते रहते हैं कि कौन सा ऐसा काम शुरू किया जाए जिसमें लागत भी कम लगे और ज्यादा रिस्क भी ना हो. आइए यहां मैं आपको “Bio diesel ka Business kaise start kre in Hindi” के बारे में बताता हूं जिसका इंडिया में बहुत ज्यादा स्कोप होने वाला है और मुझे नहीं लगता है यह बिजनेस कभी होगा.

Bio diesel ka Business kaise start kre in Hindi

प्रतिदिन ना जाने कितने लाखों लीटर वनस्पति तेल बर्बाद हो जाता है, बड़े-बड़े रेस्टोरेंट और होटलों में इसे use होने के बाद फेंक दिया जाता है. क्या आप जानते हैं कि इस waste ऑयल को बायोडीजल में कन्वर्ट किया जा सकता है जिससे गाड़ी, ट्रक या मशीनें आसानी से चलाई जा सकती हैं??

बायोडीजल एक साफ-सुथरा, डीजल से कहीं ज्यादा अच्छा fuel है. यहां मैं आपको यह भी बताऊंगा कि बायोडीजल बनाया कैसे जाता है, जिसमें सभी काम आने वाले पदार्थ (घटक/ ingredient), Raw material, tools और सभी जानकारी होगी.

बायोडीजल वास्तव में है क्या??

ऐसे बहुत से लोग हैं जो जानते हैं कि बायोडीजल सामान्य डीजल से काफी different होता है. डीजल पेट्रोलियम को रिफाइनिंग (refining)
करके प्राप्त होता है, जो कि धरती की सतह से प्राप्त होता है, जबकि बायोडीजल पेट्रोलियम से नहीं बनाया जाता. बायोडीजल रिन्यूएबल (Renewable) और स्वच्छ ज्वलनशील ईंधन है जो कि वनस्पति तेल से बनाया जाता है. जी हां ! वनस्पति तेल से. यह बहुत से तेलों से बनाया जा सकता है जैसे कि सोयाबीन तेल, palm ऑयल.

हम यहां आपको waste vegetable ऑयल से बायोडीजल बना रहे हैं, जो कि घरों, बड़े-बड़े रेस्टोरेंट से, होटलों से use करने के बाद फेंक दिया जाता है.
आप सोच रहे होंगे कि क्या सचमुच बायोडीजल से गाड़ी, ट्रक या मशीनें आसानी से चलाई जा सकती हैं? जी हां ! यह हमारे इंजन को ना सिर्फ चलाता है बल्कि उसकी परफॉर्मेंस को भी बेहतर बनाता है और नार्मल diesel की अपेक्षा कम मात्रा में कार्बन और खतरनाक गैस निकालता है.

बायोडीजल को कैसे बनाया जाता है??

क्या इसे कोई भी बना सकता है??
बहुत अच्छा सवाल है, मैं सोचता था कि शायद ही कोई मुझसे यह सवाल पूछेगा.
आपको हैरानी होगी यह जानकर कि बायोडीजल को बहुत ही आसानी से बनाया जा सकता है. जी हां, बहुत ही आसानी से.
“जट्रोका” और “करंजिया” तेल बायोडीजल बनाने में सबसे उपयुक्त है क्योंकि यह खाद्य तेल नहीं है और मानव भोजन से प्रतियोगी भी नहीं है.

चलिए आगे बढ़ते हैं और पता करते हैं कि अब हमें कौन-कौन सी सामग्री आवश्यक होगी बायोडीजल बनाने के लिए:

1). उपयोग हुआ वनस्पति तेल (Used vegetable oil):

Bio diesel ka Business kaise start kre in Hindi

आपको बहुत अच्छी तरह से पता है कि यह तेल आपको कहां कहां से मिल सकता है. जैसा कि मैंने पहले भी बताया कि आप रेस्टोरेंट और होटलों से ऐसे यूज हुए वनस्पति तेल ले सकते हैं जिसको वह लोग फेंक देते हैं. आप “जट्रोका” और “करंजिया” तेल भी यूज़ कर सकते हैं जो खाद्य पदार्थों में शामिल नहीं होते.

2). मेथेनाँल (Methanol):

Bio diesel ka Business kaise start kre in Hindi

मेथेनाँल को मैथिल अल्कोहल भी कहा जाता है. वनस्पति तेल के बाद बायो डीजल बनाने के लिए दूसरा महत्वपूर्ण घटक मेथेनाँल है. आपको मेथेनाँल किसी केमिकल व्यापारी से आसानी से मिल जाएगा. यह केमिकल बहुत सी इंडस्ट्रीज और Laboratories में बहुत ज्यादा यूज किया जाता है और ज्यादा महंगा भी नहीं होता.

3). पोटेशियम हाइड्रोक्साइड या सोडियम हाइड्रोक्साइड:

यह केमिकल साबुन बनाने में बहुत अधिक यूज़ किए जाते हैं और यह बाजार में लाई और कास्टिक सोडा के नाम से भी मिलता है. यह बायो डीजल बनाने में catalysts का काम करता है. जब तेल और मेथेनाँल की रिएक्शन होती है.

4). Tools:

यहां आपको कुछ tools की जरूरत होगी जैसे कि मिक्सिंग कंटेनर (Mixing container), थर्मामीटर या temperature gauge, वजन नापने वाली मशीन (Weighing scale) और हाँ कुछ हाथ में पहनने वाले दस्ताने भी.

चलिए बायोडीजल बनाना शुरु करते हैं:

बायोडीजल को ट्रांसएस्टेरीफिकेशन नामक रासायनिक प्रक्रिया से बनाया जाता है. कम खर्च और सरल विधि के कारण ट्रांसएस्टेरीफिकेशन को बायो डीजल बनाने का सबसे बेहतर विकल्प माना जाता है. इस प्रक्रिया में ट्राइग्लिसराइड और अल्कोहल के बीच रासायनिक अभिक्रिया कराई जाती है ताकि catalyst की उपस्थिति के साथ और उसके बिना भी एस्टर और ग्लिसराँल बनाया जा सके.

Bio diesel ka Business kaise start kre in Hindi

सबसे पहले हमें वनस्पति तेल या फिर चर्बी को रिएक्टर में डालकर 50 डिग्री सेंटीग्रेड तापमान तक गर्म करते हैं. मेथेनॉल और catalyst पोटेशियम हाइड्रोक्साइड को आंशिक मात्रा में रिएक्टर में मिलाया जाए ताकि catalyzing प्रक्रिया मिल सके.
अब रिएक्टर को 60 डिग्री सेंटीग्रेड तापमान पर 50 मिनट तक विधि पूर्वक हिलाएं. प्रतिक्रिया समाप्त होने पर बायोडीजल को settling टैंक में डालें, जिसकी निचली सतह पर ग्लिसराँल और साबुन ज्यादा घनत्व होने के कारण नीचे बैठ जाते हैं और जम जाते हैं.
अब बायोडीजल को washing टैंक में डालें जिसमें बायोडीजल को धोने के लिए गर्म पानी का इस्तेमाल करें ताकि इसमें से अतिरिक्त ग्लिसराँल और साबुन निकल जाए. ऐसा तब तक करते रहें जब तक साफ पानी वाशिंग टैंक में बायो डीजल के नीचे दिखाई ना देने लगे.
अब बायोडीजल को आसवन विधि द्वारा सुखा लें और इसकी गुणवत्ता की जांच करें.
तो…. हमारा बायोडीजल तैयार है.

लाइसेंस/ परमिट के लिए अप्लाई करें:

आपको बायोडीजल मैनुफैक्चरिंग (Manufacturing) बिजनेस शुरू करने से पहले लाइसेंस/ परमिट के लिए आवेदन करना होगा. लाइसेंस बनने के तुरंत बाद से ही आप अपना बायो डीजल का Business शुरू कर सकते हैं.

भारत सरकार ने भी अब बायोडीजल की प्राइवेट कंपनियों को भी डायरेक्ट consumer को sell करने की अनुमति दे दी है. अब तक तो सिर्फ state की oil firms और वह बड़ी कंपनियां जो दो हजार करोड़ तक का इन्वेस्टमेंट करती थी उन्ही को फ्यूल sell करने की परमिशन थी. अब प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने Motor spirit (petrol) और high speed diesel (diesel) को डायरेक्ट सेल करने का नियम यूनियन कैबिनेट में भी पास कर दिया है जो कि प्राइवेट oil manufacturer कंपनियों के लिए बहुत बड़ी खुशखबरी है.

बड़े साइज का प्लांट सेटअप करने के लिए required things:

1. Requirement of land
2. Factory Shed
3. Electrical 440V/250KVA
4. Water Supply
5. Stand By Power 150 KVA Genset
6. Analytical Laboratory
7. Set of storage Tanks
8. Bio-diesel Processor Unit

Licenses:

1). Factory Licenses:

फैक्ट्री स्टार्ट करने के लिए District factory Inspectorate की अनुमति लेनी पड़ती है.
2). Explosive License:

Methanol को स्टोर करने के लिए आपको Directorate of Explosive से लाइसेंस लेना पड़ता है और बायोडीजल के लिए लाइसेंस नागपुर से
अप्लाई होता है.

3). Pollution Control Board Clearance:

बायोडीजल के प्लांट से किसी तरीके का pollution नहीं होता है तो इसलिए यह लाइसेंस लेना भी बहुत आसान होता है.

Bio diesel ka Business kaise start kre in Hindi” Ummed h article aapko pasand aaya hoga.

तो बहुत बहुत धन्यवाद आपका और हां कुछ भी सवाल हो तो आप मुझे नीचे कमेंट भी कर सकते हैं, हम से जुड़े रहिए.

मेरी शुभकामनाएं !!

Thanks a lot to be BusinessBharat Blog Reader…

Hope you enjoy & Learn..!!

21 Comments

  1. devendra kumar January 27, 2018
    • Lokesh kumar sinhal March 19, 2018
    • Kailash chandre regar May 17, 2018
  2. Rakesh kumar Jain Kota January 31, 2018
  3. Vivek rai February 19, 2018
  4. Sunil Desai April 26, 2018
    • Deepanshu Saxena April 26, 2018
  5. Dinesh pipaliya May 25, 2018
    • Deepanshu Saxena May 25, 2018
      • Pradip gopal Bhai barad August 16, 2018
  6. Rajesh June 9, 2018
    • Deepanshu Saxena June 9, 2018
      • ANIL RAJPOOT October 3, 2018
  7. M. Athar Farooque July 1, 2018
  8. पवन कुमार July 7, 2018
  9. Vansh Chaudhary August 24, 2018
  10. Ravindra Kumar August 24, 2018
  11. rajpreet September 9, 2018
  12. Sanjay September 27, 2018
  13. tulsi chetariya October 1, 2018
  14. Kishor Digambar Vaidya October 13, 2018

Leave a Reply